Brajesh Pathak Biography in Hindi | बृजेश पाठक का जीवन परिचय

(Brajesh Pathak Biography in Hindi, Wikipedia, Family, Net worth, Party, Wife, Mother, Father, Children’s, बृजेश पाठक का जीवन परिचय, जीवनी)

उत्तर प्रदेश की राजनीति में आज बृजेश पाठक (Brajesh Pathak) एक बड़े नाम के तौर पर जाने जाते हैं। बृजेश पाठक ने छात्रनेता के रूप में अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत की थी। इसके बाद वह सांसद भी चुने गए। वहीं अब यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में बृजेश पाठक उत्‍तर प्रदेश की लखनऊ कैंट विधानसभा से विधायक चुने गए हैं। आइए आज जानते हैं बृजेश पाठक का जीवन परिचय (Brajesh Pathak Biography in Hindi)

Brajesh Pathak

Brajesh Pathak Biography in Hindi – बृजेश पाठक का जीवन परिचय

पूरा नामबृजेश पाठक
जन्‍म25 जून 1964 (57 वर्ष)
जन्‍मस्‍थानमल्‍लावां, हरदोई, उत्‍तर प्रदेश
पिता का नामसुरेश पाठक
मां का नामकमला पाठक
पत्‍नीनम्रता पाठक
संतानपुत्रियां- दीपिका पाठक, सांभवी पाठक
पुत्र- कार्तिक पाठक
शैक्षिक योग्‍यताबीकॉम, एलएलबी व एमए
पेशाराजनीति, समाज सेवा व वकालत
पार्टीभारतीय जनता पार्टी
पदउप मुख्यमंत्री (उत्तर प्रदेश), चिकित्सा शिक्षा मंत्रालय,
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय,
मातृ एवं शिशु कल्याण मंत्रालय
धर्महिंदू
जातिब्राह्मण
नेटवर्थ10 करोड़ रुपए

जन्म व परिवार

बृजेश पाठक का जन्म 25 जून 1964 में हरदोई जिले के मल्लवा कस्बे के मोहल्ला गंगाराम में हुआ था। उनके पिता का नाम सुरेश पाठक है और माता का नाम कमला पाठक है। बृजेश पाठक अपने पिता के सात संतानों में से पांचवे नंबर पर हैं। उनके एक बड़े भाई राजेश पाठक मल्लावां में रहते है और दूसरे भाई दिनेश पाठक लखीमपुर में स्कूल चलाते हैं।

शिक्षा

बृजेश पाठक ने लखनऊ विश्वविद्यालय से बीकॉम, एमए और एलएलबी की शिक्षा प्राप्त की है। छात्र जीवन से ही उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत कर दी थी।

शादी

बृजेश पाठक की शादी 8 मार्च 1985 को हुई थी। उनकी पत्नी का नाम नम्रता पाठक है। उनकी दो बेटियां हैं जिनका नाम दीपि‍का व सांभवी है। वहीं उनका एक बेटा भी है जिनका नाम कार्तिक पाठक है। उनका परिवार लखनऊ के महानगर में ही रहता है।

राजनीति सफर की शुरुआत

उन्होंने राजनीति की शुरुआत छात्र नेता के रूप में की और लखनऊ विश्वविद्यालय से 1989 में उपाध्यक्ष चुने गए। इसके बाद 1990 में बृजेश पाठक छात्रसंघ के अध्यक्ष चुने गए।

कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की

राजनीति में कदम रखते ही बृजेश पाठक ने सबसे पहले कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। साल 2002 में कांग्रेस के टिकट पर उन्होंने मल्लावां सीट से चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें जीत हासिल नहीं हुई।

सांसद बने बृजेश पाठक

2004 में बृजेश पाठक उन्नाव से बसपा के सांसद चुने गए। इसके बाद बसपा ने बृजेश पाठक को 2009 में राज्‍यसभा भेजा। मायावती ने इनकी पत्नी को महिला आयोग का उपाध्यक्ष बनाया। बृजेश पाठक यूपी में ब्राह्मणों के बड़े नेता माने जाते हैं।

बीजेपी में हुए शामिल

बृजेश पाठक साल 2014 में बसपा के टिकट पर उन्नाव से लोकसभा का चुनाव लड़े, लेकिन इस बार उनको हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद 22 अगस्त 2016 को बृजेश पाठक भाजपा में शामिल हो गए।

यूपी विधानसभा चुनाव 2017 में मिली जीत

बृजेश पाठक ने साल 2017 में लखनऊ मध्‍य सीट से उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा से चुनाव लड़ा और सपा के नेता रविदास मल्होत्रा को हराया। इसके बाद योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने उन्‍हें अपनी कैबिनेट में जगह दी। 2017 में योगी कैबिनेट में बृजेश पाठक को विधि और न्‍याय मंत्री का पद सौंपा गया।

2022 में फिर विधायक बने बृजेश पाठक

साल 2022 में हुए यूपी विधानसभा चुनाव में बृजेश पाठक को लखनऊ कैंट सीट से विधायक चुना गया है।

योगी सरकार में बने उप मुख्यमंत्री

25 मार्च 2022 को उत्तर प्रदेश में एक बार फिर योगी आदित्यनाथ सरकार गठन हुआ। योगी आदित्यनाथ सरकार में इस बार ब्रजेश पाठक को उप मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया है।

बृजेश पाठक को मिले मंत्रालय

उत्‍तर प्रदेश सरकार में उपमुख्‍यमंत्री बृजेश पाठक को चार अहम मंत्रालयों की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। बृजेश पाठक प्रदेश के नए स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बनाए गए हैं। इसके साथ ही उनको चिकित्‍सा शिक्षा मंत्रालय, परिवार कल्‍याण मंत्रालय और मातृ एवं शिशु कल्याण मंत्रालय सौंपा गया है।

FAQ’s

बृजेश पाठक कौन हैं?

बृजेश पाठक उत्‍तर प्रदेश विधानसभा के सदस्‍य हैं। इसके साथ ही वह सांसद भी रह चुके हैं।

बृजेश पाठक भाजपा में कब शामिल हुए थे?

साल 2016 में बृजेश पाठक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे।

बृजेश पाठक बसपा में कब से कब तक रहे?

साल 2004 से 2016 तक बृजेश पाठक बहुजन समाज पार्टी के सदस्‍य रहे।

Leave a Comment

उमरान मलिक ने डेब्यू मैच में ही रचा इतिहास, डाली सबसे तेज गेंद RCB का साथ देने आ रहा है ये ओपनर, 2021 में मचाई थी तबाही IPL 2023 में विराट कोहली फिर संभालेंगे कप्‍तानी? जीत पर नजर मेथी के फायदे और नुकसान तुलसी के फायदे और नुकसान | Tulsi Ke Fayde Aur Nuksan