Yashwant Sinha Biography in Hindi | यशवंत सिन्‍हा का जीवन परिचय

(Yashwant Sinha Biography in Hindi, यशवंत सिन्‍हा का जीवन परिचय, यशवंत सिन्‍हा की जीवनी, Wiki, Family, Wife, Son, Jayant Sinha, Education, Party)

Yashwant Sinha

यशवंत सिन्‍हा एक वरिष्‍ठ भारतीय राजनेता हैं। वह दो बार भारत के वित्‍त मंत्री रह चुके हैं। इसके साथ ही वह अटल बिहारी वाजपेई सरकार में विदेश मंत्रालय का कार्यभार भी संभाल चुके हैं। हाल ही में विपक्ष ने यशवंत सिन्‍हा को राष्‍ट्रपति चुनाव 2022 के लिए अपना उम्‍मीदवार घोषित किया था, लेकिन वह एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू से यह चुनाव हार गए। आइए जानते हैं यशवंत सिन्‍हा का जीवन परिचय (Yashwant Sinha Biography in Hindi)…

Yashwant Sinha Biography in Hindi – यशवंत सिन्‍हा की जीवनी

पूरा नामयशवंत सिन्‍हा (Yashwant Sinha)
जन्‍मतिथि6 नवंबर 1937 (आयु – 84 वर्ष)
जन्‍मस्‍थानपटना, बिहार
पिता का नामबिपिन बिहारी सरन
मां का नामधना देवी
पत्‍नी का नामनीलिमा सिन्‍हा (लेखिका)
पुत्र1. जयंत सिन्‍हा (राजनेता)
2. सुमंत सिन्‍हा (व्‍यवसायी)
पुत्रीशर्मिला (लेखिका)
पार्टीभारतीय जनता पार्टी (2021 से पूर्व),
तृणमूल कांग्रेस (2021 से अब तक)
पदराष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष
शैक्षिक योग्‍यतापरास्‍नातक
धर्महिंदू
जातिकायस्‍थ
आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा)1960-1984 (बिहार कैडर)

यशवंत सिन्‍हा का जन्‍म व परिवार

यशवंत सिन्‍हा का जन्‍म 6 नवंबर 1937 को बिहार के पटना जिले में (तब ब्रिटिश भारत में) हुआ था। यशवंत सिन्‍हा के पिता का नाम बिपिन बिहारी सरन है। वहीं उनकी माता का नाम धना देवी है।

शिक्षा

यशवंत सिन्‍हा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पटना में ही हासिल की। इसके बाद उन्‍होंने साल 1958 में पॉलिटिकल साइंस से परास्‍नातक की डिग्री हासिल की। इसके बाद वह साल 1962 तक पटना विश्‍वविद्यालय में राजनीति विषय के प्रोफेसर रहे।

वैवाहिक जीवन

यशवंत सिन्‍हा की पत्‍नी का नाम नीलिमा सिन्‍हा है। नीलिमा सिन्‍हा पेशे से लेखिका हैं। इसके साथ ही वह Association of Writers and illustrator for children’s की अध्‍यक्ष भी हैं। यशवंत सिन्‍हा और नीलिमा सिन्‍हा के दो बेटे हैं, जिनके नाम जयंत सिन्‍हा और सुमंत सिन्‍हा हैं। जयंत सिन्‍हा पेशे से राजनीति में ही सक्रिय हैं, वर्तमान में वह बीजेपी के टिकट पर लोकसभा के सदस्‍य भी हैं। वहीं सुमंत सिन्‍हा पेशे से एक व्‍यवसायी हैं।

यशंवत सिन्‍हा का प्रशासनिक करियर

यशवंत सिन्‍हा का प्रशासनिक करियर साल 1960 में शुरू हुआ था। उन्‍होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अपने 24 साल के कार्यकाल में कई महत्‍वपूर्ण पदों पर काम किया। साल 1971 से लेकर साल 1973 तक यशवंत सिन्‍हा बॉन, जर्मनी के भारतीय दूतावास में पहले सचिव नियुक्‍त किए गए थे।

वह भारत सरकार के वाणिज्‍य मंत्रालय के उपसचिव पद पर भी रहे। साल 1980 से साल 1984 तक वह भारत सरकार के भूतल परिवहन मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव भी रहे। इस दौरान उन्‍होंने सड़क परिवहन, बंदरगाह और शिपिंग जैसी मुख्‍य जिम्‍मेदारियों का बखूबी निर्वाह्न किया। साल 1984 में उन्‍होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्‍तीफा दे दिया और राजनीति में अपना पहला कदम बढ़ाया।

राजनीतिक सफर

जनता पार्टी

भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्‍तीफा देकर यशवंत सिन्‍हा जनता पार्टी के सदस्‍य बन गए। साल 1986 में यशवंत सिन्‍हा को पार्टी का अखिल भारतीय महासचिव नियुक्‍त किया गया। वहीं साल 1988 में वह पहली बार राज्‍यसभा के सदस्‍य चुने गए।

साल 1989 में जनता दल का गठन होने के बाद यशवंत सिन्‍हा को राष्‍ट्रीय महासचिव बनाया गया। नवंबर 1990 से जून 1991 तक यशवंत सिन्‍हा चंद्रशेखर सरकार में केंद्रीय वित्‍त मंत्री नियुक्‍त किए गए।

भारतीय जनता पार्टी

यशवंत सिन्‍हा को जून 1996 को भाजपा का राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता बनाया गया। वहीं इसके बाद मार्च 1998 में वह एक बार फिर वित्‍त मंत्री नियुक्‍त किए गए। इसके साथ ही वह साल 2004 तक जब तक नई सरकार का गठन नहीं हुआ केंद्र सरकार में विदेश मंत्री भी रहे। (एनडीए की राष्‍ट्रपति पद की उम्‍मीदवार द्रोपदी मुर्मू का जीवन परिचय यहां पढ़ें।)

यशवंत सिन्‍हा बिहार की (अब झारखंड) हजारीबाग सीट से लोकसभा के सदस्‍य भी चुने गए। साल 2004 में हुए आम चुनाव में वह हजारीबाग सीट से चुनाव हार गए। वहीं 2005 में एक बार फिर वह संसद के सदस्‍य बने। इसके बाद साल 2009 में उन्‍होंने भारतीय जनता पार्टी के उपाध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा दे दिया।

तृणमूल कांग्रेस

साल 2013 में यशवंत सिन्‍हा एक बार फिर सक्रिय राजनीति में उतरे। इस बार उन्‍होंने अपनी राजनीतिक पारी ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस के साथ शुरू की। 13 मार्च 2021 को वह तृणमूल कांग्रेस के सदस्‍य बने। तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने पर उन्‍होंने बताया कि देश दोराहे पर खड़ा है। हम जिन मूल्‍यों पर भरोसा करते हैं, वे खतरे में हैं। न्यायपालिका सहित सभी संस्थानों को कमजोर किया जा रहा है। यह पूरे देश के लिए एक अहम लड़ाई है। यह कोई राजनीतिक लड़ाई नहीं है बल्कि लोकतंत्र बचाने की लड़ाई है।

FAQ’s

यशवंत सिन्‍हा कौन हैं?

यशवंत सिन्‍हा भारतीय राजनेता हैं। वह राजनीति में शामिल होने से पहले भारतीय प्रशासनिक सेवा में भी रह चुके हैं।

यशवंत सिन्‍हा अभी किस पार्टी के सदस्‍य हैं?

यशवंत सिन्‍हा अभी तृणमूल कांग्रेस के सदस्‍य हैं।

यशवंत सिन्‍हा के बेटे जयंत सिन्‍हा किस पार्टी में हैं?

यशवंत सिन्‍हा के बेटे जयंत सिन्‍हा भारतीय जनता पार्टी के सदस्‍य हैं।

Leave a Comment

गिलोय के फायदे और नुकसान | Giloy Benefits Side Effects in Hindi शादीशुदा पुरुष रोज ऐसे खाएं सिर्फ 2 अखरोट, मिलेंगे जबरदस्त फायदे आपके सफेद बालों का काला बना सकती है कलौंजी? यहां जानिए डायबिटीज मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद है अखरोट, ऐसे करें सेवन जीरा खाने के फायदे और नुकसान | Cumin Seeds Benefits Hindi