Baba Balaknath Biography in Hindi | बाबा बालकनाथ का जीवन परिचय

Baba Balaknath ka Jivan Parichay: बाबा बालकनाथ राजस्‍थान में भारतीय जनता पार्टी के फायरब्रांड राजनेता हैं। राजस्‍थान में मुख्‍यमंत्री पद की रेस में बाबा बालकनाथ का नाम सबसे आगे चल रहा है। उन्‍होंने राजस्‍थान की तिजारा सीट से जीत हासिल की है। आइए आज जानते हैं बाबा बालकनाथ का जीवन परिचय (Baba Balaknath Biography in Hindi)…

Baba Balaknath Biography in Hindi

Baba Balaknath Biography in Hindi – बाबा बालकनाथ की जीवनी

नामबाबा बालकनाथ
बचपन में नामपंकज यादव
जन्‍मतिथि16 अप्रैल 1984
आयु39 वर्ष (2023 में)
जन्‍मस्‍थानबहरोड, राजस्‍‍थान
पिता का नामसुभाष यादव
मां का नामउर्मिला यादव
धर्महिंदू
पदविधायक (राजस्‍थान की तिजारा सीट से), पूर्व सांसद
कुल संपत्तिकरीब 45 हजार रुपए

बाबा बालकनाथ का जन्‍म व माता-पिता

16 अप्रैल 1984 के दिन बाबा बालकनाथ का जन्‍म राजस्‍थान के अलवर जिले के बहरोड (नया जिला) के कोहराना ग्राम में हुआ था। बाबा बालकनाथ के पिता का नाम सुभाष यादव है, वहीं उनकी मां का नाम उर्मिला यादव है। Also Read : योगी आदित्‍यनाथ का जीवन परिचय | Yogi Adityanath Biography in Hindi

बाबा बालकनाथ के अन्‍य नाम

बचपन में बाबा बालकनाथ का नाम पंकज यादव हुआ करता था। इसके बाद उन्‍हें उनके गुरु ने गुरुवार के दिन पैदा होने के कारण गुरुमुख नाम दिया था। वहीं बाद में नाथ संप्रदाय की दीक्षा लेने के बाद इन्‍हें बाबा बालकनाथ के नाम से जाना जाने लगा।

बाबा बालकनाथ का जीवन परिचय – Baba Balaknath Wikipedia in Hindi

बाबा बालकनाथ के परिवार की बाबा खेतानाथ में काफी गहरी आस्‍था थी। इनका पूरा परिवार बाबा खेतानाथ की सेवा में लीन रहा करता था। राजस्‍थान के नीमराना जिले में स्थित बाबा खेतानाथ व सोमनाथ महाराज के पास इनका परिवार अक्‍सर जाया करता था। उसी दौरान बाबा खेतानाथ ने इनके परिवार से सेवा के लिए एक बेटे की मांग की थी।

महज छह वर्ष की आयु में ही बाबा खेतानाथ उन्‍हें अपने साथ ले आए थे। अपनी दादी की आज्ञा पाकर बाबा बालकनाथ उत्‍साहपूर्वक बाबा खेतानाथ के साथ चले आए और उसके बाद कभी भी गृहस्‍थ जीवन की ओर मुड़कर दोबारा नहीं देखा।

जब बाबा बालकनाथ 32 वर्ष की आयु में थे तभी उनकी दादी का देहांत हो गया। इस दौरान वह एक बार अपने घर जरूर आए थे। परिवार का जब कभी भी बाबा बालकनाथ से मिलने का मन करता था तो वे मंदिर में जाकर इनसे मुलाकात कर लिया करते थे।

गृहस्‍थ जीवन का त्‍याग करने के बाद बाबा बालकनाथ ने अपने गुरू चंचलना‍थ को अपने पिता का दर्जा दिया। यही नहीं जब उन्‍होंने तिजारा सीट से अपना शपथ पत्र दाखिल किया तो उसमें भी पिता के स्‍थान पर अपने गुरू चंचलनाथ का नाम ही लिखा है।

बाबा बालकनाथ मस्‍‍तनाथ यूनिवर्सिटी के चांसलर व नाथ संप्रदाय के आठवें प्रमुख महंत हैं। 29 जुलाई 2016 के दिन महंत चांदनाथ ने बाबा बालकनाथ को अपना उत्‍तराधिकारी घोषित किया था।

17 सितंबर 2018 के दिन महंत चांदनाथ का निधन हो गया। इसके बाद साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बाबा बालकनाथ को अलवर सीट से बीजेपी ने अपना लोकसभा प्रत्‍याशी चुना। बाबा बालकनाथ ने इस चुनाव में जीत हासिल की और अलवर सीट से सांसद चुने गए।

FAQ’s

बाबा बालकनाथ के अन्‍य नाम क्‍या हैं?

बाबा बालकनाथ के बचपन का नाम पंकज यादव है। उनके गुरू ने उन्‍हें गुरमुख नाम भी दिया था।

बाबा बालकनाथ के माता-पिता का नाम क्‍या है?

बाबा बालकनाथ के पिता का नाम सुभाष यादव व मां का नाम उर्मिला है।

Leave a Comment

Confirmed : गौतम गंभीर आईपीएल 2024 में रहेंगे इस टीम के साथ IPL 2024 : बड़े बदलाव की तैयारी में RCB, दो दिग्‍गजों की छुट्टी तय जवान इस ओटीटी प्‍लेटफॉर्म पर होगी रिलीज, जानिए तारीख कौन है ये धोनी जैसे बालों वाला लड़का? पहले मैच ही में किया धमाल गदर 2 शाहरुख-सलमान पर पड़ेगी भारी? देखिए अभी के आंकड़े