इंग्‍लैंड में कोरोना वायरस का कहर, मरने वालों में वैक्सीन लगवा चुके लोग ज्यादा

लंदन। इंग्लैंड में एक बार फिर कोरोना वायरस ने तबाही मचाना शुरू कर दिया है। यहां कोरोना वायरस का इस बार सबसे ज्‍यादा वैक्‍सीन लगवा चुके वयस्‍कों पर देखने का मिल रहा है। दरअसल पब्लिक हेल्‍थ इंग्‍लैंड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना वैक्‍सीन का टीका न लगवाने वाले लोगों की तुलना में टीकाकरण करवा चुके लोगों की अधिक संख्‍या में मृत्‍यु हो रही है।

कोरोना वायरस

रिपोर्ट के मुताबिक, एक फरवरी से 21 जून तक कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के 28 दिनों में डेल्‍टा वैरिएंट से मरने वाले 257 लोगों में 163 ऐसे हैं, जिन्‍हें वैक्‍सीन की कम से कम एक डोज लगाई गई थी।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अगर मान लिया जाए कि सभी को पूरी तरह से कोरोना वायरस की वैक्‍सीन लग चुकी है, लेकिन फिर भी इससे संक्रमित होने वाले सभी लोगों को तो नहीं बचाया जा सकता। कोरोना से संक्रमित होने वाले कुछ लोग तो वैक्‍सीन लेने के बाद भी मरेंगे।

Also Read : डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट की दस्‍तक से हिला भारत, अब तक मिले इतने नए मामले

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इसका मतलब यह बिल्‍कुल भी नहीं है कि कोरोना वैक्‍सीन मौतों के आंकड़े को कम करने में प्रभावी नहीं है। कोरोना वायरस से जान गवाने का जोखिम संक्रमित की आयु के अनुपात में हर सात साल में एक गुना बढ़ जाता है। इसको अगर उदाहरण से समझा जाए तो 35 साल और 70 साल के दो संक्रमितों के बीच 35 साल के अंतर का मतलब यह है कि 70 साल के संक्रमित की मौत का जोखिम 35 साल के संक्रमित से पांच गुना ज्‍यादा होगा। ठीक ऐसे ही 35 साल के बिना वैक्‍सीनेटेड मरीज की तुलना में 75 साल के बिना वैक्‍सीनेटेड मरीज की मौत का जोखिम 32 गुना ज्‍यादा होगा।

इसको लेकर किंग्स कॉलेज लंदन के वरिष्ठ वायरस ट्रैकिंग स्पेशलिस्ट प्रोफेसर टिम स्पेक्टर ने बताया कि इस समय ब्रिटेन में महामारी की तीसरी लहर पीक पर है। यहां कुल 87.2 प्रतिशत संक्रमित लोग वो हैं जिन्हें वैक्सीन दिया जा चुका है। ऐसे में अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्‍या 19 जुलाई से ब्रिटेन में पूरी तरह से होने वाला अनलॉक उचित होगा?

बता दें कि छह जुलाई को 12,905 ऐसे लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है, जिन्हें वैक्सीन लग चुकी थी। ऐसे में यह बिल्‍कुल साफ है कि छह जुलाई को कोरोना पॉजिटिव मिले संक्रमितों में से 50 फीसदी संक्रमित वैक्सीन लगवा चुके लोग हैं। प्रोफेसर टिम स्पेक्टर के मुताबिक, आने वाला समय और भी ज्‍यादा भयावह हो सकता है, और ये ग्राफ और भी ज्यादा बढ़ सकता है।

Leave a Comment

11 नहीं IPL में अब 15 खिलाड़ी खेलेंगे मैच? BCCI करने जा रहा बड़ा बदलाव कलौंजी इन बिमारियों का है रामबाण इलाज, जानिए 10 फायदे क्या जेठालाल भी छोड़ने वाले हैं तारक मेहता का उल्टा चश्मा? भड़के दर्शक असित मोदी ने किया खुलासा, तारक मेहता बनेगा अब ये एक्टर, शूटिंग शुरू Karela Ke Fayde Aur Nuksan | करेला के फायदे और नुकसान