Paras Pipal : रातोंरात मालामाल कर सकता है यह पेड़, करें ये उपाय

ज्‍योतिषशास्‍त्र में कई ऐसे पेड़ों के बारे में बताया गया है, जिनके दर्शनमात्र से जीवन के तमाम कष्‍ट दूर हो जाते हैं। ऐसा ही एक पारस पीपल का पेड़ भी होता है। माना जाता है कि इस पेड़ के प्रभाव से बिगड़े काम बनने लगते हैं और तमाम परेशानियां खत्‍म हो जाती हैं।

Paras Pipal

पारस पीपल के पेड़ का महत्‍व

वास्‍तु शास्‍त्र और ज्‍योतिषशास्‍त्र के मुताबिक, यदि कोई व्‍यक्ति पारस पीपल का पेड़ अपने घर के आंगन में लगाता है तो उसके घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती। मान्‍यता है कि इस पेड़ के सानिध्‍य में रहने वाले लोग हमेशा सुखी, संपन्‍न और धनवान होते हैं।

ज्‍योतिष में पारस पीपल के उपाय

इस पेड़ के साथ-साथ इसके पत्‍तों के भी कई चमत्‍कारिक उपाय बताए जाते हैं। पारस पीपल के पेड़ के पत्‍ते आपके जीवन की तमाम परेशानियों को खत्‍म कर सकते हैं। ज्‍योतिष शास्‍त्र के मुताबिक, जिनकी कुंडली में गुरू कमजोर हो उन्‍हें इस पेड़ को घर में जरूर लगाना चाहिए।

Also Read : सूर्य को जल कैसे अर्पित करें?

पारस पीपल के फूल के उपाय

इस पेड़ में पीले रंग के फूल लगते हैं। माना जाता है कि यदि कोई व्‍यक्ति यह पारस पीपल के फूल गुरु ग्रह को अर्पित करता है तो उस व्‍यक्ति का गुरु मजबूत होकर बेहद शुभ फल प्रदान करता है।

Paras Pipal

अन्‍य नाम

इस पेड़ के बारे में कहा जाता है कि यह अपने आस-पास की हर चीज को सोने जैसा मूल्‍यवान बना देता है। यही कारण है कि इस पेड़ को पारस पीपल कहा जाता है। इसके सथ ही इसे Indian Tulip भी कहा जाता है। वहीं वनस्‍पति विज्ञान में इस पेड़ को Thespesia populnea, portia tree और aden apple के नाम (Paras Pipal Botanical Name) से भी जाना जाता है।

पारस पीपल का पेड़ कहां मिलेगा?

यह पेड़ बेहद दुर्लभ किस्‍म का होता है। यह पेड़ शहरों में बहुत ही कम देखने में मिलता है। अधिकतर यह पेड़ जंगलों में पाया जाता है।

पारस पीपल का पेड़ कैसा होता है?

इस पेड़ के पत्‍तों की गोलाई आम पीपल के पेड़ के पत्‍तों से थोड़ी ज्‍यादा होती है। पारस पीपल की पहचान करना थोड़ा मुश्किल काम है। दरअसल जहां एक तरफ आम पीपल का पेड़ बड़ा व लंबा होता है, वहीं दूसरी तरफ इस पेड़ की लंबाई थोड़ी कम होती है। इस पेड़ में पीले रंग के फूल आते हैं।

Paras Pipal

पारस पीपल के औषधीय उपयोग

आयुर्वेद शास्‍त्र के मुताबिक, इस पेड़ के औषधीय उपयोग भी हैं। दरअसल इस पेड़ को बलवर्धक और वीर्यवर्धक बताया जाता है। इसके साथ ही यह पेड़ कई तरह के मानसिक रोगों के इलाज में भी काम आता है। वहीं नशे की लत छुड़ाने के लिए भी इस पेड़ का उपयोग किया जाता है।

चमत्‍कारिक उपाय

इस पेड़ को भगवान विष्‍णु का रूप माना जाता है। इसकी पूजा करने से धन की देवी मां लक्ष्‍मी अतिशीघ्र प्रसन्‍न होती हैं। इस पेड़ की पूजा करने वाले व्‍यक्ति का घर हमेशा धन-संपदा से परिपूर्ण रहता है।

यदि कोई व्‍यक्ति कड़ी मेहनत करने के बाद भी पैसों की तंगी का शिकार हो तो उस व्‍यक्ति को इस पेड़ के 108 पत्‍तों पर श्री हरि का नाम लिखकर किसी नदी में प्रवाहित करना चाहिए। इस उपाय से व्‍यक्ति के घर में पैसों की तंगी दूर हो जाएगी।

वहीं इस पेड़ को नजर उतारने के लिए भी प्रयोग किया जाता है। यदि किसी व्‍यक्ति को बार-बार नजर लगती है और वह आए दिन बीमार पड़ जाता है तो इस पेड़ के 21 पत्‍तों पर ऊं हं हनुमते नम: लिखकर किसी नदी में प्रवाहित करना चाहिए।

इसके साथ ही यदि किसी भी व्‍यक्ति की शादी में बार-बार अड़चनें आ रही हैं तो उस व्‍यक्ति को रोजाना पारस पीपल की जड़ में जल अर्पित करना चाहिए। वहीं इसके साथ ही यदि वह व्‍यक्ति गुरु ग्रह के मंत्र का जाप करे तो उसकी शादी के योग बहुत जल्‍दी बनने शुरू हो जाएंगे।

(नोट : यह लेख सामान्‍य जानकारी के उद्देश्‍य से लिखा गया है। लेख में लिखे उपायों को अपनाने से पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह अवश्‍य लें।)

FAQ’s

क्‍या पारस पीपल के पेड़ को औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है?

हां, इस पेड़ के कई औषधीय गुण होते हैं।

पारस पीपल का पेड़ कैसा होता है?

इस पेड़ के पत्‍तों की गोलाई आम पीपल के पेड़ के पत्‍तों से थोड़ी ज्‍यादा होती है। वहीं यह आम पीपल से लंबाई में छोटा भी होता है।

पारस पीपल का पेड़ कहां मिलेगा?

यह पेड़ अधिकतर जंगलों में पाया जाता है।

1 thought on “Paras Pipal : रातोंरात मालामाल कर सकता है यह पेड़, करें ये उपाय”

  1. पारस पीपल के पत्तों पर भगवान विष्णु का नाम किस चीज से लिखें ।
    पेन या चंदन ।

    Reply

Leave a Comment

उमरान मलिक ने डेब्यू मैच में ही रचा इतिहास, डाली सबसे तेज गेंद RCB का साथ देने आ रहा है ये ओपनर, 2021 में मचाई थी तबाही IPL 2023 में विराट कोहली फिर संभालेंगे कप्‍तानी? जीत पर नजर मेथी के फायदे और नुकसान तुलसी के फायदे और नुकसान | Tulsi Ke Fayde Aur Nuksan