Haldi Ke Fayde Aur Nuksan | हल्‍दी के फायदे और नुकसान

Haldi Ke Fayde Aur Nuksan : हल्‍दी का प्रयोग लगभग भारत के हर घर में किया जाता है। जहां एक तरफ यह खाने का स्‍वाद बढ़ाती है तो वहीं दूसरी तरफ खाने की खूबसूरती बढ़ाने का काम भी हल्‍दी का ही होता है। इसके अलावा भारत में हल्‍दी का प्रयोग पूजा में भी किया जाता है। वहीं हल्‍दी के गुण इसे एक प्रकार की औषधि भी बनाते हैं। दरअसल कई बीमारियों में हल्‍दी के फायदे (Haldi Ke Fayde) जानकर आप भी हैरान हो सकते हैं। आइए आज जानते हैं हल्‍दी के फायदे और नुकसान (Haldi Ke Fayde Aur Nuksan) क्‍या-क्‍या हैं?

Haldi Ke Fayde

Table of Contents

हल्दी में मौजूद पोषक तत्व

हल्दी में एंटी बैक्टिरियल, एंटी ऑक्सीडेंट्स, एंटीफंगल जैसे कई तत्व पाए जाते हैं। यह तत्व शरीर के रोगों को दूर करते हैं। हल्दी में विटामिन सी, पोटेशियम, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, कॉपर, फॉस्फोरस, थियामिन आदि तत्‍व (Haldi Ke Fayde) मौजूद होते हैं। ये तत्‍व ही हल्‍दी को फायदेमंद बनाते हैं, और शरीर की बिमारियों को दूर करने का काम करते हैं।

हल्दी से आयुर्वेदिक उपचार

यह कफ, वात, खुजली, प्रमेह, त्वचा के दोष, सूजन, घाव, पित्त और अपच ठीक करता है। रसौली के रोग को भी हल्दी की गाठों के इस्तेमाल से पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है।

हल्दी खाने का सही तरीका और सही समय

हल्दी का सेवन वैसे तो किसी भी वक्त किया जा सकता है, लेकिन हल्‍दी का उपयोग (Haldi Ke Fayde) करने से पहले कुछ बातों का ध्‍यान रखना बेहद जरूरी है। दरअसल हर किसी व्‍यक्ति के शरीर की तासीर अलग-अलग होती है और इसे आप किस कारण के लिए खा रहे हैं इस पर भी निर्भर करता है।

अगर आप हल्दी के पानी का प्रयोग सुबह खाली पेट करते हैं तो इससे आपकी पाचन क्रिया बिल्कुल स्वस्थ रहेगी। इसके अलावा हल्‍दी का सेवन दोपहर में भी किया जा सकता है। हल्‍दी का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका है कि इसे दूध में मिला कर सेवन किया जाए।

वहीं अगर आप कच्ची हल्दी का सेवन (Haldi Ke Fayde) करते हैं तो ये आपके सेहत के लिए और भी ज्यादा फायदेमंद साबित होगी। हल्दी में करक्यूमिन नामक एक्टिव कंपाउंड पाया जाता है जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। यह कंपाउंड गुणों से भरपूर होता है।

दिन भर में इस मात्रा में करें हल्दी का सेवन

एक दिन में कच्ची हल्दी का सेवन करीब 10 से 20 ग्राम ही करना चाहिए और बच्चों को 5 ग्राम से ज्यादा नहीं देना चाहिए। इसके अलावा अगर आप हल्दी का पाउडर इस्तेमाल करते हैं, तो 5 से 10 ग्राम तक ही इसका सेवन करें और बच्चों को आधे से एक ग्राम से ज्यादा न दें।

मौसम के हिसाब से करें हल्दी का सेवन

कई लोग यह मानते हैं कि हल्दी की तासीर गर्म होने की वजह से इसका सेवन गर्मी में नहीं करना चाहिए, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नही है। हल्दी की तासीर गर्म होती है इसलिए गर्मी में इसका सेवन (Haldi Ke Fayde) कम करना चाहिए। गर्मी व सर्दी दोनों में इसका सेवन किया जा सकता है।

हल्दी के फायदे – Haldi Ke Fayde

Haldi Ke Fayde

कान की समस्या से छुटकारा दिलाती है हल्‍दी

हल्दी के प्रयोग से कान बहने की समस्या को ठीक किया जा सकता है। हल्दी और फिटकरी को 1 और 20 के परिणाम में मिलाकर नली के द्वारा कान में फूकने से प्राचीन कर्ण-स्त्राव में आराम (Haldi Ke Fayde) मिलता है।

दाद में फायदेमंद होती है हल्दी

अगर आप दाद और दूसरे चर्म रोगों से परेशान हैं तो हल्दी के फूल का लेप दाद और दूसरे चर्म रोगों पर लगाने से लाभ मिलता है। इसके लिए हल्दी के फूल को घिस कर इसका लेप बना लें और इसे दाद वाले स्थान पर लगाएं। कुछ ही दिन में आपको इससे राहत (Haldi Ke Fayde) मिलेगी। 

त्वचा के लिए फायदेमंद है हल्‍दी

अगर आपके चेहरे पर किसी भी तरह की खुजली या दाने को समस्या हो तो आप हल्दी के इस्तेमाल से उसे ठीक कर सकते हैं। इसके लिए हल्दी और नीम की पत्तियों का लेप तैयार करें और इसे अपने चेहरे पर लगाएं। इस लेप को सूखने तक लगाए रखें फिर चेहरे को ठंडे पानी से धुल (Haldi Ke Fayde) लें।

जोड़ों के दर्द में फायदेमंद है हल्‍दी

जिन्हें गठिया, कमर दर्द या जोड़ों में दर्द की शिकायत हो वे हल्दी का सेवन कर इससे छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए हल्दी, मेथी दाना और सोंठ को बराबर मात्रा में लें और इसको पीस कर इसका एक पाउडर तैयार कर लें। इस पाउडर को सुबह शाम एक एक चम्मच दूध या फिर गरम पानी में मिला कर इसका सेवन करें। ये आपके लिए बहुत ही फायदेमंद (Haldi Ke Fayde) होगा।

चोट में फायदेमंद है हल्‍दी

अगर आपको किसी तरह का कट लग जाए और वहां से लगातार खून बहने लगे तो हल्दी से आप उस जगह के लगातार बहते हुए खून को रोक सकते हैं। इसके लिए खून निकलने वाली जगह पर एक चम्मच हल्दी का पाउडर डालें। इससे खून निकलना तुरंत बंद हो जाता है। क्योंकि हल्दी में एंटी सेप्टिक गुण पाए जाते हैं जिससे घाव (Haldi Ke Fayde) जल्दी भरते हैं।

दंत रोग में फायदेमंद है हल्‍दी

यदि आपके दांतों व मसूड़ों में दर्द हो या फिर किसी भी तरह का दंत रोग जैसे पायरिया की समस्या हो तो थोड़े सरसों के तेल में चुटकी भर हल्दी मिला कर अपने दातों और मसूड़ों में हल्के हाथों से मसाज करें और फिर गुनगुने पानी से दांतों को साफ कर लें। इसके अलावा अगर आपको मुंह से दुर्गंध आने की समस्या हो तो आप गर्म पानी में हल्दी मिला कर इसका कुल्ला करें। इससे यह समस्या भी खत्म (Haldi Ke Fayde) हो जाएगी।

Also Read : Dahi Khane ke Fayde aur Nuksan

लिवर को डिटॉक्स करती है हल्‍दी

हल्दी में करक्यूमेन नामक कंपाउंड होता है। अगर आप नियमित रूप से गर्म पानी में हल्दी नींबू और शहद मिला कर पिएं तो इससे आपके शरीर में मौजूद सभी तरह के विषैले पदार्थ बाहर निकलकर आपको सेहतमंद (Haldi Ke Fayde) बनाए रखते हैं।

कैंसर से लड़ने में मददगार है हल्‍दी

अगर कैंसर की शुरुआती स्टेज हो तो हल्दी इसे ठीक करने में काफी हद तक फायदेमंद हो सकती है। इस लिए कच्ची हल्दी कैंसर के मरीजों के लिए रामबाण औषधि मानी जाती है। इसके लिए नियमित आप कच्ची हल्दी का सेवन (Haldi Ke Fayde) करें।

दिल को स्वस्थ रखती है हल्‍दी

हल्दी ह्रदय की मांसपेशियों को स्वस्थ रखती है और साथ ही खून के स्त्राव को अच्छा बनाती है। इसलिए हल्दी को गर्म पानी में डाल कर इसका सेवन करने से खून के थक्के नहीं जमते हैं। इसके साथ साथ हल्दी कोलेस्ट्रॉल को भी कंट्रोल (Haldi Ke Fayde) में रखता है।

हल्दी दूध के फायदे – Doodh Haldi Ke Fayde

Haldi Ke Fayde

स्ट्रेस दूर करता है हल्दी के दूध का सेवन

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर व्यक्ति अपनी किसी न किसी निजी मामलों को लेकर परेशान रहता है, जिससे स्ट्रेस होना एक आम बात है। इसके लिए हल्दी के दूध का सेवन बेहद फायदेमंद साबित होगा। रात में सोने से पहले गर्म दूध में हल्दी मिला कर इसका सेवन करने से स्ट्रेस दूर होता है।

सूजन के लिए लाभदायक है हल्दी वाला दूध

यदि किसी व्यक्ति को अंदरूनी चोट लग जाती है या फिर सूजन की समस्या है तो हल्दी वाले दूध का सेवन करने से जल्द आराम होने लगता है।

फ्रैक्चर में फायदेमंद

हल्दी में एंटीबायोटिक तत्‍व मौजूद होते हैं और दूध में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है इसलिए किसी भी तरह के फ्रैक्चर में भी हल्दी और दूध फायदेमंद होता है।

खांसी जुकाम को रखे दूर

खांसी जुकाम को ठीक करने के लिए हल्दी वाला दूध बेहद लाभकारी माना गया है। हल्दी की तासीर गर्म होती है और इसमें एंटी बैक्टेरियल और एंटीवायरल प्रॉपर्टी होती हैं जिस वजह से सर्दी खांसी जुकाम में इसका सेवन करने से राहत मिलती है। अगर आप दूध में उबाल कर हल्दी का सेवन करते हैं, तो इससे आपकी इम्यूनि‍टी भी स्ट्रॉन्ग होगी यानी आप खांसी जुकाम से बचे रहेंगे।

रंग गोरा करने के लिए हल्दी फायदेमंद

अगर आपकी त्वचा का रंग डल है और आप गोरा रंग चाहते हैं तो थोड़ी सी कच्ची हल्दी या फिर हल्दी का पाउडर दो चम्मच दूध में मिला कर इसका पेस्ट बना लें। इसे 15 से 20 मिनट चेहरे पर लगे रहने दें। नियमित स्नान के वक्त आप इस लेप को लगाएं धीरे धीरे आपका रंग निखरने लगेगा और साथ ही त्वचा चमकदार भी होगी।

इन रोगों में न करें हल्दी का सेवन

  • गर्भवती महिला को हल्दी के सेवन से बचना चाहिए इससे उन्हें नुकसान हो सकता है।
  • अगर आपको पीलिया हो तो इसमें आपको हल्दी का प्रयोग नहीं करना चाहिए। हल्दी की तासीर गर्म होती है इससे समस्या बढ़ सकती है।
  • अगर आप किसी तरह की सर्जरी या ऑपरेशन कराने जा रहे हों तो हल्दी का सेवन बिल्कुल न करें।
  • शरीर में खून की कमी या फिर अनीमिया हो तो हल्दी का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको दिल से जुड़ी कोई बीमारी हो तो हल्दी का सेवन बिल्कुल न करें।
  • अगर आपको पथरी की समस्या हो तो हल्दी के सेवन से बचें।

हल्दी के नुकसान – Haldi Ke Nuksan

कोरोना के बाद लोग हल्दी का इस्तेमाल ज्यादा करने लगे हैं। हल्दी को काढ़े में मिलाकर इसका सेवन करते हैं। वैसे तो हल्दी काफी ज्यादा फायदेमंद है लेकिन इसका ज्यादा सेवन आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है। इससे शरीर में कुछ घातक परेशानियां भी उत्पन्न हो सकती हैं। आइए जानते हैं हल्दी के नुकसान क्‍या-क्‍या हैं।

कब्ज की समस्या

एक रिसर्च के मुताबिक, हल्दी का अधिक सेवन गैस, कब्ज और मतली को बढ़ा सकती है। सामान्यत: 240 से 500 मिलीग्राम हल्दी वो भी तीन बार में प्रयोग करने की हिदायत दी जाती है इसलिए इसका अधिक सेवन करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

पथरी की समस्या

हल्दी का अधिक प्रयोग किडनी में पथरी की समस्या उत्पन्न कर सकता है। यह ऑक्सिलेट कैल्शियम को शरीर में घुलने की बजाय बांधने लगते हैं, जिससे कैल्शियम अघुलनशील होने लगता है।

पाचन संबंधित समस्या

हल्दी की ज्‍यादा सेवन से पाचन संबंधी समस्या हो सकती है। इसके कारण कई बार दस्त या उल्टी की समस्या भी होने लगती है।

आयरन की कमी

हल्दी का अधिक प्रयोग आयरन को शरीर में अब्जॉर्ब होने से रोक सकता है इसलिए आपके शरीर में आयरन की कमी है तो आप हल्दी का सेवन कम मात्रा में ही करें।

लिवर के आकार को बढ़ा सकता है

हल्दी का अधिक सेवन लिवर के आकार, पेट के अल्सर और सूजन को भी बढा सकता है। इससे आपके अंदर लिवर के कैंसर का खतरा भी बन सकता है।

अधिक इस्तमाल से हो सकते हैं त्वचा संबंधी रोग

यदि आप फेस पैक के रूप में हल्दी का अधिक मात्रा में इस्तेमाल करते हैं तो यह आपके चेहरे का रंग बिगाड़ सकता है। साथ ही चेहरे पर खुजली की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है। हल्दी का प्रभाव हर इंसान की त्वचा पर अलग तरीके से होता है इसलिए इसे ज्‍यादा उपयोग करने पर नुकसान भी हो सकता है।

FAQ’s

हल्दी की तासीर कैसी होती है?

हल्दी की तासीर गर्म होती है।

किस मौसम में हल्दी का प्रयोग कम करना चाहिए?

हल्दी का प्रयोग गर्मी के मौसम में कम करना चाहिए, क्योंकि हल्दी की तासीर भी गर्म होती है।

क्या हल्दी का प्रयोग चोट लगने में किया जाता है?

हल्दी में एंटी सेप्टिक गुण पाए जाते हैं जिससे अगर किसी भी तरह का कट या घाव हो तो इसमें हल्दी का प्रयोग करने से फायदा मिलेगा।

Leave a Comment

उमरान मलिक ने डेब्यू मैच में ही रचा इतिहास, डाली सबसे तेज गेंद RCB का साथ देने आ रहा है ये ओपनर, 2021 में मचाई थी तबाही IPL 2023 में विराट कोहली फिर संभालेंगे कप्‍तानी? जीत पर नजर मेथी के फायदे और नुकसान तुलसी के फायदे और नुकसान | Tulsi Ke Fayde Aur Nuksan