जीरा के फायदे और नुकसान | Cumin Seeds Benefits and Side effects in Hindi

(जीरा के फायदे, जीरा के नुकसान, जीरा के फायदे और नुकसान, Cumin Seeds Benefits in Hindi, Cumin Seeds Side effects in Hindi, Cumin Seeds Benefits and Side effects in Hindi, Jeera Ke Fayde, Jeera Ke Nuksan, Jeera ke Fayde Aur Nuksan)

जीरा भारतीय व्यंजनों का गौरव है। लगभग हर भारतीय परिवार रोजाना जीरे का सेवन करता ही है। आज जीरे का इस्तेमाल सिर्फ हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में किया जाता है। जीरा के फायदे (Jeera Ke Fayde) कई हैं और साथ ही साथ ये खाने के स्वाद को और लज़ीज बनाता है। इसी कारण यह दुनिया भर के अलग-अलग व्‍यंजनों में इस्‍तेमाल किया जाता है।

Jeera ke Fayde

बता दें की जीरा भारत में व्यापक रूप से भोजन के स्वाद को बेहतर बनाने के लिए उपयोग किया जाने वाला मसाला है। जीरा चावल भारतीय लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय है। इसके अलावा जीरा यूरोप और एशिया में पाया जाने लगा है। जीरे में कई सारे औषधीय गुण होते हैं जो कई बीमारियों के खतरों को कम करने में मदद करते हैं। पुराणों में भी जीरे को एक अच्छा घरेलू उपाय माना गया है। जीरा सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। आज हम आपको जीरा के फायदे और नुकसान (Jeera Ke Fayde Aur Nuksan) के बारे में बताएंगे।

जीरा क्या है?

जीरा यानी “Cuminum cyminum L” जोकि जीरे का वैज्ञानिक नाम है। “जीरा” संस्कृत भाषा के “जीरक” शब्द से आता है, जिसका अर्थ है कि यह पाचन में मदद करता है। जीरा एक शरद ऋतु का पौधा है जो चीन भारत मध्य पूर्व और भूमध्य क्षेत्रों में कम ऊंचाई पर उगता है।

जीरा एक सुगन्धित मसाला है, साथ ही साथ यह एक औषधि भी है, जिसका इस्तेमाल भारत समेत लगभग दुनिया के हर देश में होता है, जीरा को अंग्रेजी में Cumin Seeds भी कहते हैं, भारतीय व्यंजनों का शान माने जाने वाले जीरे के कई और भी इस्तेमाल हैं, इसे स्वास्थ को बेहतर बनाने के लिए भी हजारो वर्षों से इस्तेमाल किया आता जा रहा है, जीरा प्राचीन काल से मानव आहार का हिस्सा रहा है। 

बता दें की अमेरिका जाने वाला जीरा लगभग पूरे भारत से आता है। जीरे के अनेको इस्तेमाल रोजाना देखने को मिलता है जैसे पिसे हुए जीरे का उपयोग जलन के लिए और मसाले के रूप में किया जाता है और जीरे के तेल का उपयोग इत्र बनाने और कई स्वास्थ्य स्थितियों के इलाज के लिए भी किया जाता है।

जीरा के अन्‍य नाम

जीरा का अंग्रेजी नाम (Jeera in English)Cumin Seeds
वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)Cuminum cyminum L
संस्‍कृत (Jeera in Sanskrit)जीरक
हिंदी नाम (Cumin Seeds in Hindi)जीरा,
तेलुगू (Jeera in Telugu)जिलकारा, जिल करर
तमिल (Jeera in Tamil)शीरागम, शीरुगम

जीरा के प्रकार – Types Of Cumin Seeds in Hindi

बता दें की आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार जीरा तीन प्रकार का होता है-

1. सफेद जीरा

2. काला जीरा

3. जंगली जीरा

सफेद जीरा आमतौर पर हमारे घरों में प्रयोग किया जाता है। सफेद जीरा मुख्य रूप से खाने में मसाले के रूप में प्रयोग किया जाता है। काले और सफेद जीरे में कोई खास अंतर नहीं है। सफेद जीरे की तुलना में काला जीरा अधिक महंगा होता है। आइये इन तीनो प्रकार के बारे में और अधिक जानते हैं-

सफेद जीरा (White cumin seeds)

भारत में इस जीरे का थोड़ा बहुत प्रयोग किया जाता है। हालांकि सफेद जीरा विटामिन ए और विटामिन सी का अच्छा स्रोत माना जाता है। तो अगर आप विटामिन सी और ए के लिए किसी तरह का मसाला ढूंढ रहे हैं तो उसके लिए सफेद जीरे का इस्तेमाल कर सकते हैं।

काला जीरा (Black Cumin seeds)

काला जीरा स्वाद में थोड़ा कड़वा होता है। और इसके ताप प्रभाव के कारण इसका उपयोग सर्दियों के महीनों में अधिक किया जाता है। इसका उपयोग पेट में कोलेस्ट्रॉल की समस्या को कम करने के लिए भी किया जाता है।

जंगली जीरा (Jungali cumin seeds)

जंगली जीरा आमतौर पर  सर्दी और खांसी के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। इसी तरह अगर आपके सिर पर जुएं या जुएं हैं तो आप जंगली जीरे का इस्तेमाल कर सकते हैं।

जीरा के फायदे / जीरा खाने के फायदे – Jeera Ke Fayde

जीरा स्वाद के साथ साथ आपके स्वास्थ का भी काफी ख़याल रखता है, आइये जानते हैं कि जीरा के फायदे (Jeera Ke Fayde) क्या-क्या हैं-

त्वचा के लिए बेहतरीन है जीरा  

जीरा का पानी त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें विटामिन ई अच्छी मात्रा में होता है जो त्वचा की कोशिकाओं को पोषक तत्व प्रदान करता है। एक प्राकृतिक एंटी-एजिंग बल के रूप में कार्य करता है। कुछ अध्ययनों के अनुसार जीरे में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इसमें एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं। यहां जानिए काला जीरा के फायदे और नुकसान क्‍या-क्‍या हैं?

एनीमिया के इलाज में मदद करता है जीरा 

एनीमिया एक जानलेवा बीमारी है। इन कठिनाइयों से बचने के लिए जीरे का उपयोग (Jeera Ke Fayde) करने की सलाह दी जाती है। जीरा आयरन से भरपूर होता है जो आयरन की कमी को पूरा करता है। यह लाल रक्त कोशिकाओं को उत्तेजित करता है जिससे लिमोग्लोबिन में सहज वृद्धि होती है। यह एनीमिया के लक्षणों को भी कम करता है। रोजाना अपने आहार में जीरा पाउडर का प्रयोग करें। इससे एनीमिया की समस्या दूर हो जाती है।

वजन कम करने में सहायक जीरा

वजन कम करने की कोशिश करने वालों के लिए जीरा एक बेहतरीन घरेलू उपाय है। इसमें वजन घटाने के अच्छे गुण होते हैं और यह वसा को कम कर सकता है लेकिन कोलेस्ट्रॉल भी कम कर सकता है। भुने हुए जीरे के पाउडर और दही को मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से वजन कम होता है और शरीर सामान्य होता है।

पाचन क्रिया को बढ़ाने में बेहतरीन होता है जीरा

जीरे में पहले से ही आयुर्वेदिक गुण होते हैं जो पेट दर्द पेट दर्द जी मिचलाना उल्टी आदि का इलाज कर सकते हैं। पाचन के साथ आने वाले अग्नाशयी एंजाइमों को उत्तेजित करता है। यह घरेलू उपाय पेट के लिए बहुत अच्छा है। भुने हुए जीरे को सुबह एक गिलास पानी में मिलाकर शाम को इस्तेमाल करें। कुछ ही दिनों में आपको फर्क दिखने लगेगा।

माँ के दूध को बढ़ाने में सहायक जीरा

महिलाओं में दूध की कमी को दूर करने में जीरा बहुत उपयोगी होता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें कैल्शियम और आयरन अच्छी मात्रा में होता है जो दूध की मात्रा को बढ़ाता है और उसे अधिक प्रचुर मात्रा में बनाता है। साथ ही मां का दूध बच्चे को ऊर्जा देता है। मां के दूध को पूरक करने के लिए गर्म दूध में एक बड़ा चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर पीना चाहिए।

जीरा के नुकसान / ज्यादा जीरा खाने के नुकसान

जीरा खाने के जहाँ कई फायदे हैं तो वहीं इसका ज्यादा इस्तेमाल नुकसानदायक भी हो सकता है। जैसा कि आप जानते हैं कि जीरा खाने में इस्तेमाल होने वाले भारतीय खाने का अहम हिस्सा है। हालांकि जीरे का ज्यादा इस्तेमाल नुकसानदायक भी हो सकता है। आइये जानते है जीरा के कुछ ऐसे नुकसान जो आपको जरूर जानने चाहिए-

  • जीरे के ज्यादा इस्तेमाल से सीने में जलन और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।
  • जीरे के अधिक सेवन से बवासीर की समस्या भी हो सकती है।
  • गर्भवती महिलाओं को जीरे का सेवन कम करना चाहिए। जीरे की अधिक मात्रा भ्रूण के लिए हानिकारक भी हो सकती है।
  • ऐसा कम ही देखने को मिलता है। हालांकि कई लोगों को जीरे से एलर्जी हो जाती है। अगर ऐसा है तो आपको जीरा नहीं खाना चाहिए।
  • मधुमेह (Sugar) रोगियों को बिना डॉक्टर की सलाह के जीरे का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए।
  • जीरे का अधिक सेवन आपको रक्तस्राव के खतरे में डालता है।
  • जीरा गर्म होता है इसलिए इसके अधिक सेवन से शरीर में कई तरह की समस्याएं भी हो सकती हैं।

जीरा का इस्तेमाल कैसे करें?

जीरे का इस्तेमाल आप कई प्रकार से कर सकते है, निम्नलिखित तरीकों से आप जीरे का इस्तेमाल अपने रोजाना जीवन में कर सकते हैं-

  • सब्जी बनाते समय आप सब्जी में जीरे के छौंक को लगा सकते हैं।
  • आप दही या फिर छाछ के अंदर भुने हुए जीरे का सेवन भी कर सकते हैं।
  • पूरे भारत में ऐसी बहुत सी जगह है जहा जीरे का उपयोग राइस यानी चावल में किया जाता है जिससे जीरा राइस कहते हैं, इस प्रकार से आप भी जीरा को राइस के साथ पका कर सेवन कर सकते हैं।
  • मसाला चाय की तरह आप अगर चाहें तो जीरा को चाय के साथ भी बना सकते है, कई लोगों को यह पसंद नहीं पर  जीरा चाय आपको अनेक समस्याओं से निजात दिलाता है।
  • जीरे के पाउडर को आप गरम पानी में डालकर भी पी सकते हैं।
  • साथ ही साथ आप इसके अलावा चाहें तो जीरे का साधारण  सेवन कई तरह के स्वादिष्ट dish बनाने में भी कर सकते हैं।

FAQ’s

जीरे की तासीर कैसी होती है?

जीरे की तासीर गर्म होती है, लेकिन इसका उपयोग लगभग सभी मौसमों में किया जाता है।

जीरा कितने प्रकार का होता है?

जीरा तीन प्रकार का होता है, काला, सफेद और जंगली जीरा।

क्या हमें जीरा पानी पीने से लाभ होता है?

जी हां, इसके बहुत सारे लाभ होते हैं, यह मुख्यतः आपकी पाचन क्रिया से लेकर पेट के दर्द तक में राहत देता है।

Leave a Comment

गिलोय के फायदे और नुकसान | Giloy Benefits Side Effects in Hindi शादीशुदा पुरुष रोज ऐसे खाएं सिर्फ 2 अखरोट, मिलेंगे जबरदस्त फायदे आपके सफेद बालों का काला बना सकती है कलौंजी? यहां जानिए डायबिटीज मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद है अखरोट, ऐसे करें सेवन जीरा खाने के फायदे और नुकसान | Cumin Seeds Benefits Hindi