नवजोत सिंह सिद्धू का जीवन परिचय | Navjot Singh Siddhu Biography in Hindi

नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Siddhu) के नाम से आज शायद ही कोई शख्‍स परिचित न हो। दरअसल भारतीय क्रिकेट में अपनी छाप छोड़ने के बाद सिद्धू ने भारतीय राजनीति में भी खूब चौके और छक्‍के लगाए हैं। सिद्धू ने अपना राजनीतिक करियर भारतीय जनता पार्टी के साथ शुरू किया था, लेकिन बाद में वे कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए। आइए जानते हैं नवजोत सिंह सिद्धू का जीवन परिचय, आयु, माता-पिता, पत्‍नी, बच्‍चे, नेटवर्थ के बारे में (Navjot Singh Siddhu Biography in Hindi, Age, Mother-Father, Wife, Childrens, Net Worth in Hindi)

Navjot Singh Siddhu

संक्षिप्‍त परिचय

पूरा नामनवजोत सिंह सिद्धू
निक नेमशेरी पाजी
जन्‍म20 अक्टूबर 1963
आयु58 वर्ष
जन्‍मस्‍थानपटियाला, पंजाब
पिता का नामसरदार भगवंत सिंह
माता का नामनिर्मल सिद्धू
पत्‍नी का नामनवजोत कौर सिद्धू
बच्‍चेबेटा- करण, बेटी- राबिया
पेशाक्रिकेटर, कमेंटेटर, पॉलि‍टिशियन
पार्टीकांग्रेस
नेटवर्थकरीब 45 करोड़ रुपए

नवजोत सिंह सिद्धू का जन्‍म और माता-पिता

20 अक्‍टूबर 1963 के दिन पंजाब के पटियाला में नवजोत सिंह सिद्धू का जन्‍म एक जाट सिख परिवार में हुआ था। सिद्धू के पिता का नाम सरदार भगवंत सिंह है। सरदार भगवंत सिंह भी एक क्रिकेटर थे, इसके साथ ही वह पंजाब के अटॉर्नी जनरल भी रहे। वहीं सिद्धू की मां का नाम निर्मल सिद्धू है।

Kanhaiya Kumar Biography in Hindi

नवजोत सिंह सिद्धू की पत्‍नी और बच्‍चे

नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Siddhu Wikipedia in Hindi) की पत्‍नी का नाम डॉ. नवजोत कौर सिद्धू है। डॉ. नवजोत कौर सिद्धू भी भारत की सक्रिय राजनीति का हिस्‍सा हैं। वह पंजाब विधानसभा की पूर्व सदस्‍य भी रह चुकी हैं। इन दोनों के दो बच्‍चे हैं। सिद्धू के बेटे का नाम करण और बेटी का नाम राबिया है।

शिक्षा

सिद्धू ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पटियाला के यादविंद्र पब्लिक स्‍कूल से पूरी की। इसके बाद उन्‍होंने मोहिंद्र कॉलेज, पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ से अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी की।

नवजोत सिंह सिद्धू का राजनीतिक करियर

पहली बार चुने गए सांसद

सिद्धू ने अपने राजन‍ीतिक जीवन की शुरूआत साल 2004 में की थी। 2004 में वह बीजेपी के टिकट से अमृतसर सीट से लोकसभा सांसद चुने गए। हालांकि इसके बाद साल 2006 में अदालत ने उन्‍हें गैर इरादतन हत्‍या के लिए तीन साल के कारावास की सजा सुनाई। सजा का ऐलान होने के बाद उन्‍होंने सांसद पद से इस्‍तीफा दे दिया और सुप्रीम कोर्ट में निचली अदालत के फैसले का चुनौती दी।

Sukhjinder Singh Randhawa Biography in Hindi

फिर जीतकर बने सांसद

वहीं साल 2007 में सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालत की सजा के फैसले पर रोक लगा दी और सिद्धू को फिर चुनाव लड़ने की इजाजत भी दे दी। साल 2007 में हुए उपचुनाव में वह फिर अमृतसर सीट से सांसद चुन लिए गए। वहीं इसके बाद साल 2009 के आम चुनाव में वह एक बार फिर जीतकर लोकसभा पहुंचे।

2014 में नहीं मिला टिकट

कांग्रेस के हुए सिद्धू

साल 2014 में बीजेपी से टिकट नहीं मिलने के कारण उन्‍होंने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया। साल 2016 में बीजेपी ने सिद्धू को राज्‍यसभा के लिए मनोनीत किया। हालांकि कुछ महीनों बाद ही जुलाई 2016 में उन्‍होंने राज्‍यसभा सांसद पद से इस्‍तीफा दे दिया।

इसके बाद सिद्धू ने साल 2017 में कांग्रेस पार्टी की सदस्‍यता ग्रहण कर ली। 2017 में हुए पंजाब विधानसभा चुनाव में वह अमृतसर के पूर्वी क्षेत्र से चुनाव लड़े और भारी मतों से विजयी हुए। इसके बाद वह पंजाब की कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री बने।

पंजाब प्रदेश अध्‍यक्ष पद से दिया इस्‍तीफा

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 सहित पांच राज्‍यों में कांग्रेस पार्टी की बुरी तरह से हुई हार के बाद पार्टी अध्‍यक्ष ने सभी राज्‍यों के प्रदेश अध्‍यक्षों से उनका इस्‍तीफा मांग लिया है। इसी के चलते 16 मार्च 2022 को सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से अपना इस्‍तीफा दे दिया।

सिद्धू को एक साल की सजा

रोड रेज मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 19 मई 2022 के‍ दिन नवजोत सिंह सिद्धू को एक साल के कारावास की सजा सुनाई। बता दें कि पीडि़त परिवार की पुर्नविचार याचिका पर सुनवाई के बाद 25 मार्च 2022 को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

FAQ’s

Q : नवजोत सिंह सिद्धू का जन्‍म कब हुआ?

Ans : 20 अक्टूबर 1963

Q : नवजोत सिंह सिद्धू के पिता का नाम क्‍या है?

Ans : सरदार भगवंत सिंह

Q : नवजोत सिंह सिद्धू की मां का नाम क्‍या है?

Ans : निर्मल सिद्धू

Q : नवजोत सिंह सिद्धू की पत्‍नी कौन हैं?

Ans : नवजोत कौर सिद्धू

Q : नवजोत सिंह सिद्धू के कितने बच्‍चे हैं?

Ans : बेटा- करण, बेटी- राबिया

Leave a Comment

ऐसे लोग बेहद संभलकर करें कलौंजी का सेवन, हो सकते हैं बड़े नुकसान ऐसे लोग भूलकर भी न करें मेथी का सेवन, हो सकते हैं बड़े नुकसान औषधीय गुणों का खजाना है तुलसी, इन बिमारियों में ऐसे करें सेवन कच्‍चा लहसुन इन बिमारियों का है रामबाण इलाज, ऐसे करें प्रयोग कौन हैं दीपिका पादुकोण की छोटी बहन? दीदी से ज्‍यादा है कमाई