General Bipin Rawat Biography : नहीं रहे CDS बिपिन रावत, हे‍लीकॉप्‍टर हादसे में पत्‍नी का भी निधन

जनरल बिपिन रावत भारत के पहले रक्षा प्रमुख हैं। उन्‍हें 1 जनवरी 2020 के दिन देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ नियुक्‍त किया गया था। इससे पहले वह भारतीय सेना के प्रमुख थे। जनरल बिपिन रावत की प‍हली नियुक्ति जनवरी 1979 में मिजोरम में हुई थी। आइए आज जानते हैं जनरल बिपिन रावत का जीवन परिचय (General Bipin Rawat Biography in Hindi)

General Bipin Rawat Biography in Hindi

General Bipin Rawat Biography in Hindi – जनरल बिपिन रावत का जीवन परिचय

पूरा नामबिपिन लक्ष्‍मण सिंह रावत
जन्‍म16 मार्च 1958
आयु63 वर्ष
जन्‍मस्‍थानपौड़ी गढ़वाल, उत्‍तराखंड
पिता का नामलक्ष्‍मण सिंह रावत
मां का नामज्ञात नहीं
पत्‍नीमधुलिका रावत
बच्‍चेकीर्तिका और तारिणी रावत
सेवाभारतीय सेना में
पदचीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ (सीडीएस)
धर्महिंदू
प्रसिद्धिदेश के पहले रक्षा प्रमुख
शैक्षिक योग्‍यताडॉक्‍टरेट
नेटवर्थज्ञात नहीं
वेतन2,50,000 +

Who is Bipin Rawat – कौन हैं जनरल बिपिन रावत

जनरल बिपिन रावत देश के पहले और वर्तमान चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ हैं। उन्‍हें जनवरी 2020 में इस पद पर नियुक्‍त किया गया था। इससे पहले वह देश के थलसेना प्रमुख थे।

Sambit Patra Biography in Hindi | संबित पात्रा का जीवन परिचय

Bipin Rawat Birthday and Mother-father in Hindi – बिपिन रावत का जन्‍म व माता-पिता

16 मार्च 1958 के दिन बिपिन रावत का जन्‍म उत्‍तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में हुआ था। बिपिन रावत के पिता का नाम लक्ष्‍मण सिंह रावत है। लक्ष्‍मण सिंह रावत भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर थे। यही कारण है कि बिपिन रावत के अंदर देशभक्ति का जज्‍बा बचपन से ही बस गया था।

Bipin Rawat Wife and Children Names in Hindi बिपिन रावत की पत्‍नी और बच्‍चे

जनरल बिपिन रावत की शादी साल 1986 में रीवा राजघराने से ताल्‍लुक रखने वाली मृगेंद्र सिंह की मंझली बेटी से हुई थी। बिपिन रावत की पत्‍नी का नाम मधुलिका रावत है। वहीं इन दोनों की दो‍ बेटियां हैं। इनकी बड़ी बेटी का नाम कीर्तिका है, जिनकी शादी हो चुकी है और वे अपने परिवार के साथ मुंबई में रहती हैं। वहीं जनरल रावत की छोटी बेटी का नाम तारिणी रावत है। तारिणी दिल्‍ली हाईकोर्ट में प्रैक्टिस कर रही हैं और दिल्‍ली में ही रहती हैं।

Bipin Rawat Educational Qualification in Hindi – शिक्षा

बिपिन रावत ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा शिमला के सेंट एडवर्ड स्‍कूल से पूरी की। वहीं इसके बाद वह देहरादून चले गए और यहां आईएमए यानी इंडियन मिलिट्री एकेडमी में एडमिशन लिया। यहीं से उन्‍होंने स्‍नातक की उपाधि हासिल की। आईएमए में बिपिन रावत को सॉर्ड ऑफ ऑनर से भी सम्‍मानित किया गया था। इसके बाद उन्‍होंने देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी से रक्षा एवं प्रबन्ध अध्ययन में एमफिल की डिग्री हासिल की। वहीं इसके बाद उन्‍होंने मद्रास यूनिवर्सिटी से स्ट्रैटेजिक और डिफेंस स्टडीज में भी एमफिल की उपाधि हासिल की। साल 2011 में बिपिन रावत ने चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से सैन्य मीडिया अध्ययन में पीएचडी की उपाधि हासिल की थी।

Bipin Rawat Career in Hindi – बिपिन रावत का करियर

चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत की जीवनी (General Bipin Rawat Biography in Hindi) उनके करियर की बात किए बिना अधूरी रहेगी। आइए जानते हैं कैसा रहा है जनरल बिपिन रावत का करियर…

साल 1978 में भारतीय सेना में हुए शामिल

जनरल बिपिन रावत ने अपने करियर की शुरूआत साल 1978 में की थी। तब उन्‍हें गोरखा-11 राइफल्‍स की पांचवीं बटालियन में शामिल किया गया था। उनकी पहली नियुक्ति मिजोरम में हुई थी।

भारतीय सेना में मेजर

बिपिन रावत को अधिक ऊंचाई पर होने वाले युद्ध का बेहद अच्‍छा अनुभव था। इसके साथ ही वह आतंकवाद विरोधी अभियानों का संचालन करने में भी महारथ रखते थे। भारतीय सेना में मेजर के पद पर रहते हुए उन्‍होंने जम्‍मू कश्‍मीर और उरी में एक कंपनी की कमान संभाली थी।

भारतीय सेना में कर्नल फिर ब्रिगेडियर

बिपिन रावत ने भारतीय सेना में कर्नल के पद पर रहते हुए किबिथू में एलएसी के साथ-साथ पूर्वी सेक्‍टर में भी 11 गोरखा राइफल्‍स की पांचवीं बटालियन की कमान संभाली थी। वहीं इसके बाद उन्‍होंने ब्रिगेडियर के तौर पर सोपोर में राष्‍ट्रीय राइफल्‍स के पांचवे सेक्‍टर की भी कमान संभाली थी।

अंतररष्‍ट्रीय स्‍तर पर भी रहे तैनात

बिपिन रावत ने यूएन मिशन के तहत कई अन्‍य देशों में भी अपनी सेवाएं दीं। यूएन मिशन के तहत उन्‍होंने कांगो में भी अपनी सेवाएं दी थी। यहां उन्‍होंने बहुराष्ट्रीय ब्रिगेड की कमान संभाली थी। इस मिशन पर बिपिन रावत ने 7 हजार लोगों की जान बचाई थी। यही कारण है कि उनके शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्‍हें दो बार फोर्स कमांडर के प्रशस्ति से सम्‍मानित किया गया था।

जब मेजर जनरल बने बिपिन रावत

बिपिन रावत जब मेजर जनरल के पद पर नियुक्‍त हुए, तब उन्‍होंने 19वीं इन्फैंट्री डिवीजन (उरी) के जनरल ऑफिसर कमांडिंग के तौर पर भी अपनी सेवाएं दीं। वहीं इसके बाद वह लेफ्टिनेंट जनरल नियुक्‍त किए गए। इस दौरान उन्होंने पुणे में दक्षिणी सेना को संभालने से पहले दीमापुर में मुख्यालय वाली III कोर की कमान संभाली थी।

ऐसे बने थलसेना प्रमुख

इसके बाद बिपिन रावत को सेना कमांडर ग्रेड में पदोन्नत किया गया। 1 जनवरी 2016 के दिन बिपिन रावत ने जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ (जीओसी-इन-सी) दक्षिणी कमान का पदभार ग्रहण किया, हालांकि उनका यह कार्यकाल बेहद छोटा रहा। इसके बाद बिपिन रावत को भारतीय थलसेना के उप प्रमुख के पद पर नियुक्‍त किया गया। वहीं बाद में 17 दिसंबर 2016 को उन्‍हें 27वें थल सेनाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था।

Bipin Rawat Award – बिपिन रावत को मिले पुरस्कार

जनरल बिपिन रावत को भारतीय सेना में रहते हुए उनके शानदार प्रदर्शन के चलते कई तरह के पुरस्कारों से भी सम्‍मानित किया गया। उनके 37 साल के शानदार आर्मी करियर में उन्हें कई अवार्ड्स भी मिले।

  • उत्तम युद्ध सेवा पदक
  • अति विशिष्ट सेवा पदक
  • युद्ध सेवा पदक
  • सेना पदक
  • विशिष्ट सेवा पदक
  • घाव पदक
  • सामान्य सेवा पदक
  • विशेष सेवा पदक
  • ऑपरेशन पराक्रम पदक
  • सैन्य सेवा पदक
  • उच्च तुंगता सेवा पदक
  • विदेश सेवा पदक
  • आजादी की 50वीं वर्षगांठ का पदक
  • 30 वर्ष लम्बी सेवा का पदक
  • 20 वर्ष लम्बी सेवा का पदक
  • 9 वर्ष लम्बी सेवा का पदक
  • संयुक्त राष्ट्र शांतिस्थापन (MONUSCO)

Bipin Rawat Latest News in Hindi – बिपिन रावत ताजा समाचार

तमिलनाडू के नीलगिरी जिले के कुन्‍नूर में 8 दिसंबर के दिन भारतीय सेना का हे‍लीकॉप्‍टर मिग-17वी5 दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया। इस हेलीकॉप्‍टर में देश के रक्षा प्रमुख जनरल बिपिन रावत अपनी पत्‍नी मधुरिका रावत सहित सवार थे। बिपिन रावत के साथ कुल 14 अधिकारी हेलीकॉप्‍टर में उड़ान भर रहे थे। हादसे में 13 लोगों के निधन की पुष्टि हो चुकी है, इनमें सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्‍नी मधुलिका रावत भी शामिल हैं।

FAQ’s

Q : बिपिन रावत कौन हैं?
Ans : 
जनरल बिपिन रावत देश के पहले और वर्तमान चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ हैं। उन्‍हें जनवरी 2020 में इस पद पर नियुक्‍त किया गया था।

Q : बिपिन रावत भारतीय थलसेना प्रमुख के पद पर कब से कब तक रहे?
Ans : 
बिपिन रावत 31 दिसंबर 2016 से 31 दिसंबर 2019 तक भारतीय थलसेना प्रमुख रहे।

Q : बिपिन रावत के पिता कौन हैं?
Ans : 
बिपिन रावत के पिता का नाम लक्ष्‍मण सिंह रावत है। लक्ष्‍मण सिंह रावत भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर थे।

Q : बिपिन रावत की पत्‍नी का नाम क्‍या है?
Ans : 
बिपिन रावत की पत्‍नी का नाम मधुलिका रावत है।

Leave a Comment

गिलोय के फायदे और नुकसान | Giloy Benefits Side Effects in Hindi शादीशुदा पुरुष रोज ऐसे खाएं सिर्फ 2 अखरोट, मिलेंगे जबरदस्त फायदे आपके सफेद बालों का काला बना सकती है कलौंजी? यहां जानिए डायबिटीज मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद है अखरोट, ऐसे करें सेवन जीरा खाने के फायदे और नुकसान | Cumin Seeds Benefits Hindi